बाइपोलर डिसऑर्डर क्या है | What is Bipolar Disorder in Hindi

Share with Friends...

क्या आपने कभी कुछ दिनों के लिए बेहद खुश और ऊर्जावान महसूस किया है? और फिर बिना किसी स्पष्ट कारण के अचानक बहुत उदास और निराश महसूस किया है?

यदि हां, तो आपने द्विध्रुवी विकार या बाइपोलर डिसऑर्डर के कुछ लक्षणों का अनुभव किया होगा।

बाइपोलर डिसऑर्डर एक गंभीर मानसिक बीमारी है जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करती है।

बाइपोलर डिसऑर्डर, जिसे उन्मत्त अवसाद (maniac depression) के रूप में भी जाना जाता है एक ऐसी स्थिति है जो अत्यधिक मिजाज (mood swings) का कारण बनती है जो आपके दैनिक जीवन में हस्तक्षेप कर सकती है।

इस ब्लॉग पोस्ट में हम बताएंगे कि बाइपोलर डिसऑर्डर क्या है, इसके लक्षण, कारण, निदान और इलाज कैसे किया जाता है और आप इससे कैसे निपट सकते हैं

बाइपोलर डिसऑर्डर क्या है?

बाइपोलर डिसऑर्डर एक मानसिक विकार है जो आपको अवसाद की अवधि और असामान्य रूप से ऊंचा मूड की अवधि का अनुभव कराता है।

इन अवधियों को एपिसोड कहा जाता है और दिनों से लेकर हफ्तों तक रह सकता है। आपके लक्षणों की तीव्रता के आधार पर एपिसोड हल्के या गंभीर हो सकते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर के लक्षण

बाइपोलर डिसऑर्डर के कुछ लक्षण नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • उदास, निराश, या बेकार की भावना
  • दोषी या लज्जित की भावना
  • घबराहट या चिड़चिड़ापन
  • थका हुआ या सुस्त
  • जिन चीजों में आप आमतौर पर आनंद लेते हैं उनमें रुचि या आनंद की कमी
  • ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में कठिनाई
  • भूख या वजन में बदलाव
  • नींद न आना या बहुत अधिक नींद आना
  • मृत्यु या आत्महत्या के विचार

जब आपको उन्मत्त एपिसोड (manic episode) होता है तो आप निम्नलिखित लक्षण महसूस कर सकते हैं:

  • अत्यंत प्रसन्न, हर्षित, या उत्साहित
  • ऊर्जा से भरपूर या बेचैन
  • अति आत्मविश्वासी या भव्य (grandiose)
  • बातूनी या बोलने के लिए तनावपूर्ण
  • आसानी से विचलित या आवेगी
  • जोखिम भरे या लापरवाह व्यवहार में लिप्त होना, जैसे बहुत अधिक पैसा खर्च करना, बहुत तेज गाड़ी चलाना, या असुरक्षित यौन संबंध बनाना
  • चिड़चिड़ा या आक्रामक
  • भ्रांतिपूर्ण या मतिभ्रम करनेवाला

कुछ लोगों में उन्माद का कम गंभीर रूप हो सकता है जिसे हाइपोमेनिया कहा जाता है।

हाइपोमेनिया (hypomania) आपको सामान्य से अधिक उत्पादक, रचनात्मक, या आउटगोइंग महसूस करा सकता है। लेकिन यह रिश्तों या काम के साथ खराब निर्णय और समस्याएं भी पैदा कर सकता है।

कभी-कभी बाइपोलर डिसऑर्डर वाले लोगों में मिश्रित एपिसोड हो सकते हैं, जहां वे एक ही समय में अवसाद और उन्माद (depression and mania) दोनों के लक्षणों का अनुभव करते हैं।

यह उनके और उनके प्रियजनों के लिए बहुत भ्रमित करने वाला और परेशान करने वाला हो सकता है।

बाइपोलर डिसऑर्डर किन कारणों से होता है?

बाइपोलर डिसऑर्डर का सटीक कारण ज्ञात नहीं है, लेकिन यह संभवतः आनुवंशिक, जैविक और पर्यावरणीय कारकों का एक संयोजन है।

कुछ संभावित कारक नीचे सूचीबद्ध हैं:

#1 जेनेटिक्स (genetics)

बाइपोलर डिसऑर्डर अक्सर परिवारों में चलता है। यदि आपके माता-पिता या भाई-बहन बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रसित हैं तो आपको इसे स्वयं विकसित करने की अधिक संभावना है।

#2 मस्तिष्क की संरचना और कार्य

बाइपोलर डिसऑर्डर वाले लोगों के मस्तिष्क की संरचना और गतिविधि में अंतर हो सकता है जो उनके मूड के नियमन और तनाव की प्रतिक्रिया को प्रभावित करता है।

#3 मौसमी परिवर्तन

बाइपोलर डिसऑर्डर से पीड़ित कुछ लोगों को सीजनल अफेक्टिव डिसऑर्डर (SAD) का अनुभव हो सकता है यह एक प्रकार का अवसाद है जो साल के कुछ निश्चित समय में होता है, आमतौर पर सर्दियों में।

#4 अन्य मानसिक बीमारियाँ

बाइपोलर डिसऑर्डर वाले लोगों में अन्य मानसिक स्वास्थ्य स्थितियाँ भी हो सकती हैं, जैसे चिंता विकार, पदार्थ उपयोग विकार, खाने के विकार, या ध्यान-अभाव/अतिसक्रियता विकार (ADHD)।

#5 तनाव

तनावपूर्ण जीवन की घटनाएं, जैसे आघात, हानि, दुर्व्यवहार, बीमारी या रिश्ते की समस्याएं, बाइपोलर एपिसोड को ट्रिगर या खराब कर सकती हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर का निदान कैसे किया जाता है?

बाइपोलर डिसऑर्डर का निदान करना कठिन हो सकता है क्योंकि इसके लक्षण व्यापक रूप से भिन्न हो सकते हैं और अन्य स्थितियों के साथ ओवरलैप हो सकते हैं।

कोई एकल परीक्षण नहीं है जो बाइपोलर डिसऑर्डर की पुष्टि कर सकता है।

बाइपोलर डिसऑर्डर का निदान करने के लिए आपका डॉक्टर निम्नलिखित कर सकते हैं:

  • आपसे आपके चिकित्सकीय इतिहास और मानसिक बीमारी के पारिवारिक इतिहास के बारे में पूछ सकते हैं।
  • अपने लक्षणों के अन्य संभावित कारणों का पता लगाने के लिए एक शारीरिक परीक्षा और रक्त परीक्षण कर सकते हैं।
  • अपने मनोदशा, विचारों, व्यवहार और कामकाज का आकलन करने के लिए मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन कर सकते हैं।
  • मूड चार्ट (mood chart) या ऐप का उपयोग करके आपको अपने मूड में बदलाव का ट्रैक रखने के लिए कह सकते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर का इलाज कैसे किया जाता है?

बाइपोलर डिसऑर्डर एक आजीवन स्थिति है जिसके लिए निरंतर उपचार और प्रबंधन की आवश्यकता होती है।

उपचार के मुख्य लक्ष्य निम्नलिखित हैं:

  • अपने मूड को स्थिर करें और अपने एपिसोड की आवृत्ति और गंभीरता को रोकें या कम करें
  • आपको अपने लक्षणों से निपटने में मदद करें और अपने कामकाज और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करें
  • मादक द्रव्यों के सेवन, आत्महत्या, या अन्य चिकित्सा समस्याओं जैसी जटिलताओं के जोखिम को कम करें

बाइपोलर डिसऑर्डर के उपचार में आमतौर पर दवा और मनोचिकित्सा का संयोजन शामिल होता है।

आपकी आवश्यकताओं के आधार पर आप अन्य प्रकार के समर्थन से भी लाभान्वित हो सकते हैं, जैसे कि शिक्षा, स्वयं सहायता समूह (Self help group), या जीवन शैली में परिवर्तन।

#1 दवाई

दवा बाइपोलर डिसऑर्डर उपचार का एक अनिवार्य हिस्सा है। यह आपके मस्तिष्क रसायन विज्ञान को संतुलित करने और आपके मिजाज को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

बाइपोलर डिसऑर्डर के इलाज के लिए विभिन्न प्रकार की दवाएं उपलब्ध हैं, जैसे:

मूड स्टेबलाइजर्स (mood stabilizers)
ये दवाएं मैनिक और डिप्रेसिव एपिसोड को रोकने या कम करने में मदद करती हैं। उदाहरणों में लिथियम (lithium), वैल्प्रोएट (valproate), कार्बामाज़ेपिन (carbamazepine) और लैमोट्रिजिन (lamotrigine) आदि शामिल हैं।
एंटीसाइकोटिक्स (antipsychotics)
ये दवाएं मनोविकृति का इलाज करने में मदद करती हैं जैसे कि भ्रम या मतिभ्रम, जो उन्मत्त या मिश्रित एपिसोड के दौरान हो सकता है। वे मूड को स्थिर करने और पुनरावृत्ति को रोकने में भी मदद कर सकते हैं। उदाहरणों में ओलंज़ापाइन (olanzapine), क्वेटियापाइन (quetiapine), रिसपेरीडोन (risperidone), एरीपिप्राज़ोल (aripiprazole) और ल्यूरसिडोन (lurasidone) शामिल हैं।
एंटीडिप्रेसेंट (antidepressant)
ये दवाएं अवसाद का इलाज करने में मदद करती हैं जो अवसादग्रस्तता के एपिसोड के दौरान हो सकती हैं। वे आम तौर पर उन्माद को ट्रिगर करने से रोकने के लिए मूड स्टेबलाइज़र या एंटीसाइकोटिक के संयोजन में उपयोग किए जाते हैं। उदाहरणों में फ्लुओक्सेटीन (fluoxetine), सेराट्रलाइन (sertraline), बुप्रोपियन (bupropion) और वेनालाफैक्सिन (venlafaxine) शामिल हैं।
एंटीएंक्साइटी दवाएं (antianxiety medications)
ये दवाएं उन चिंता को कम करने में मदद करती हैं जो उन्मत्त या अवसादग्रस्तता के एपिसोड के दौरान हो सकती हैं। वे आमतौर पर अल्पकालिक राहत के लिए उपयोग किए जाते हैं और निर्भरता या दुरुपयोग के जोखिम के कारण सावधानी के साथ उपयोग किया जाना चाहिए। उदाहरणों में लोराज़ेपम (lorazepam), क्लोनाज़ेपम (clonazepam) और अल्प्राज़ोलम (alprazolam) शामिल हैं।

आपके लिए सही दवा खोजने में कुछ परीक्षण और त्रुटि हो सकती है। आपका डॉक्टर वह दवा लिखेगा जो आपके लक्षणों, चिकित्सा के इतिहास और प्राथमिकताओं के अनुकूल हो।

आपको एक समय में एक से अधिक दवाएं लेने या समय के साथ दवाओं को बदलने की आवश्यकता हो सकती है। आपको हमेशा अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करना चाहिए कि आप अपनी दवा कैसे लें और किसी भी दुष्प्रभाव या चिंता की सूचना दें।

#2 मनोचिकित्सा

मनोचिकित्सा बाइपोलर डिसऑर्डर उपचार का एक अन्य महत्वपूर्ण घटक है।

यह आपकी स्थिति को समझने, अपनी भावनाओं से निपटने, अपने रिश्तों को बेहतर बनाने और पुनरावृत्ति को रोकने में आपकी सहायता कर सकता है।

विभिन्न प्रकार के मनोचिकित्सा हैं जो बाइपोलर डिसऑर्डर के लिए सहायक हो सकते हैं, जैसे:

कॉग्निटिव-बिहेवियरल थेरेपी (CBT)
यह थेरेपी आपको नकारात्मक विचारों और व्यवहारों को पहचानने और चुनौती देने में मदद करती है जो आपके मूड और कामकाज को प्रभावित कर सकते हैं। यह आपको तनाव का प्रबंधन करने और ट्रिगर्स को रोकने के लिए कौशल और रणनीतियों का सामना करना भी सिखाता है।
इंटरपर्सनल एंड सोशल रिदम थेरेपी (IPSRT)
यह थेरेपी आपकी दैनिक दिनचर्या और सामाजिक बातचीत को विनियमित करने में आपकी मदद करती है जो आपके मूड की स्थिरता को प्रभावित कर सकती है। यह आपको पारस्परिक संघर्षों को सुलझाने और संचार कौशल में सुधार करने में भी मदद करता है।
फैमिली-फोकस्ड थेरेपी (FFT)
इस थेरेपी में आपके इलाज में आपके परिवार के सदस्य या महत्वपूर्ण अन्य लोग शामिल होते हैं। यह आपको उन्हें बाइपोलर डिसऑर्डर के बारे में शिक्षित करने, परिवार के कामकाज में सुधार करने और सहायता और समस्या को सुलझाने के कौशल को बढ़ाने में मदद करता है।
मनोशिक्षा (psychoeducation)
यह चिकित्सा आपको बाइपोलर डिसऑर्डर, इसके कारणों, लक्षणों, उपचार के विकल्पों और मुकाबला करने की रणनीतियों के बारे में जानकारी प्रदान करती है। यह आपके मूड में बदलाव की निगरानी करने और आपकी उपचार योजना का पालन करने में भी आपकी मदद करता है।

मनोचिकित्सा व्यक्तिगत या समूह सेटिंग में दिया जा सकता है।

आपको अपनी आवश्यकताओं और लक्ष्यों के आधार पर कई हफ्तों या महीनों तक नियमित सत्र में भाग लेने की आवश्यकता हो सकती है।

समर्थन के अन्य रूप

दवा और मनोचिकित्सा के अलावा, अन्य प्रकार के समर्थन भी हैं जो आपको बाइपोलर डिसऑर्डर का प्रबंधन करने में मदद कर सकते हैं, जैसे:

#1 शिक्षा (Education)

बाइपोलर डिसऑर्डर के बारे में अधिक जानने से आपको अपनी स्थिति को समझने, अपने ट्रिगर्स को पहचानने और अपने लक्षणों से निपटने में मदद मिल सकती है। आप राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य संस्थान (NIMH), वेबएमडी (webMD), या हेल्पगाइड (HelpGuide) जैसे स्रोतों से विश्वसनीय जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

#2 स्व-सहायता समूह (self help group)

एक सहायता समूह में शामिल होने से आपको उन अन्य लोगों से जुड़ने में मदद मिल सकती है जो आपके अनुभव साझा करते हैं, भावनात्मक समर्थन प्रदान करते हैं, और मुकाबला करने की युक्तियों का आदान-प्रदान करते हैं। आप डिप्रेशन एंड बाइपोलर सपोर्ट एलायंस (DBSA) या मानसिक बीमारी पर राष्ट्रीय गठबंधन (NAMI) जैसे संगठनों के माध्यम से स्थानीय या ऑनलाइन समूह ढूंढ सकते हैं।

#3 जीवनशैली में बदलाव

अपने दैनिक जीवन में स्वस्थ विकल्प बनाने से आपको अपने मूड को प्रबंधित करने और पुनरावृत्ति को रोकने में मदद मिल सकती है।

जीवनशैली में कुछ बदलाव जो आपकी मदद कर सकते हैं उनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • पर्याप्त नींद लेना: नींद आपके मूड की स्थिरता और समग्र स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। हर दिन एक ही समय पर सोने और जागने की कोशिश करें।
  • अच्छा खाना: एक संतुलित आहार आपके मस्तिष्क और शरीर को पोषण देने में मदद कर सकता है और मिजाज को रोक सकता है। फलों, सब्जियों, लीन प्रोटीन और साबुत अनाज को प्राथमिकता दें और वसा, नमक और चीनी में कटौती करें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करना: शारीरिक गतिविधि आपके मूड, ऊर्जा और आत्म-सम्मान को बढ़ाने में मदद कर सकती है। सप्ताह के अधिकांश दिनों में कम से कम 30 मिनट का मध्यम व्यायाम करने का लक्ष्य रखें। ऐसी गतिविधि चुनें जिसका आप आनंद लेते हैं और जो आपके फिटनेस स्तर के अनुकूल हो।
  • तनाव का प्रबंधन: तनाव आपके लक्षणों को खराब कर सकता है और एपिसोड को ट्रिगर कर सकता है। अपने जीवन में तनाव के स्रोतों की पहचान करने और उनसे बचने का प्रयास करें, और गहरी सांस लेने, ध्यान, योग या मालिश जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास करें।
  • नशीली दवाओं और शराब से परहेज: मादक द्रव्यों का सेवन आपकी दवा के साथ हस्तक्षेप कर सकता है, आपके लक्षणों को खराब कर सकता है और जटिलताओं के जोखिम को बढ़ा सकता है। अगर आपको ड्रग्स या अल्कोहल की समस्या है तो पेशेवर मदद लें।

आप बाइपोलर डिसऑर्डर से कैसे निपट सकते हैं?

बाइपोलर डिसऑर्डर के साथ रहना चुनौतीपूर्ण हो सकता है लेकिन इसके लिए आपको परिभाषित करने या आपकी क्षमता को सीमित करने की आवश्यकता नहीं है। उचित उपचार और सहायता के साथ आप अपनी स्थिति का सामना कर सकते हैं और एक पूर्ण जीवन जी सकते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर से निपटने में आपकी मदद करने के लिए कुछ सुझाव नीचे दिए गए हैं:

  • जल्दी मदद लें: जितनी जल्दी आप निदान और इलाज करवाते हैं आपके ठीक होने और आगे के एपिसोड को रोकने की संभावना उतनी ही बेहतर होती है। यदि आप अपने आप में या किसी प्रियजन में बाइपोलर डिसऑर्डर के कोई लक्षण देखते हैं तो अपने डॉक्टर या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से संपर्क करने में संकोच न करें।
  • अपनी उपचार योजना पर टिके रहें: अपनी दवा कैसे लें और नियमित रूप से अपने चिकित्सा सत्रों में भाग लें, इस बारे में अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करें। पहले अपने चिकित्सक से परामर्श किए बिना अपनी दवा को बंद या परिवर्तित न करें। यदि आपके उपचार के बारे में कोई चिंता या प्रश्न हैं, तो अपने डॉक्टर या चिकित्सक से बात करें।
  • अपने मूड पर नज़र रखें: मूड चार्ट या ऐप का उपयोग करके अपने मूड में बदलाव और लक्षणों पर नज़र रखें। यह आपको किसी भी पैटर्न या ट्रिगर को नोटिस करने में मदद कर सकता है जो आपके मूड की स्थिरता को प्रभावित कर सकता है। यह आपको अपने चिकित्सक या चिकित्सक के साथ बेहतर संवाद करने में भी मदद कर सकता है।
  • एक सपोर्ट नेटवर्क बनाएं: अपने आप को ऐसे लोगों से घेरें जो आपकी परवाह करते हैं और आपकी स्थिति को समझते हैं। जरूरत पड़ने पर अपने परिवार, दोस्तों या साथियों से मदद मांगें। उन्हें बताएं कि किसी एपिसोड या संकट के दौरान वे आपकी कैसे मदद कर सकते हैं।
  • आगे की योजना बनाएं: संकट की योजना बनाकर खुद को संभावित आपात स्थितियों के लिए तैयार करें। इस योजना में शामिल होना चाहिए:
  • आपके डॉक्टर, चिकित्सक, परिवार के सदस्यों, दोस्तों, या अन्य भरोसेमंद लोगों के लिए संपर्क जानकारी की एक सूची जो आपात स्थिति में आपकी सहायता कर सकते हैं
  • चेतावनी संकेतों की एक सूची जो इंगित करती है कि आप एक एपिसोड या रिलैप्स कर रहे हैं
  • मुकाबला करने की रणनीतियों की एक सूची जो आपको शांत करने या खुद को विचलित करने में मदद कर सकती है
  • उन दवाओं की सूची जो आप ले रहे हैं और उनकी खुराक
  • स्थानीय या राष्ट्रीय हॉटलाइन या संसाधनों की एक सूची जिसे आप सहायता के लिए कॉल कर सकते हैं

निष्कर्ष

बाइपोलर डिसऑर्डर कोई कमजोरी या दोष नहीं है।

यह एक चिकित्सीय स्थिति है जिसके लिए उपचार और प्रबंधन की आवश्यकता होती है।

मदद मांगकर, अपनी उपचार योजना का पालन करके और अपनी देखभाल करके आप बाइपोलर डिसऑर्डर से निपट सकते हैं और एक खुशहाल और उत्पादक जीवन जी सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों

बाइपोलर डिसऑर्डर क्या है?

बाइपोलर डिसऑर्डर विकार एक मानसिक बीमारी है जो अत्यधिक मिजाज का कारण बनती है जिसमें उन्माद या हाइपोमेनिया और अवसाद शामिल हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर के प्रकार क्या हैं?

कई प्रकार के बाइपोलर और संबंधित विकार हैं। उनमें उन्माद या हाइपोमेनिया और अवसाद शामिल हो सकते हैं। सबसे आम प्रकार बाइपोलर I डिसऑर्डर, बाइपोलर II डिसऑर्डर और साइक्लोथैमिक विकार हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर किन कारणों से होता है?

बाइपोलर डिसऑर्डर के सटीक कारण स्पष्ट नहीं हैं लेकिन आनुवंशिक और पर्यावरणीय दोनों कारक भूमिका निभा सकते हैं। कुछ जोखिम कारकों में पारिवारिक इतिहास, बचपन में दुर्व्यवहार, दीर्घकालिक तनाव, नशीली दवाओं या शराब का दुरुपयोग और असामान्य मस्तिष्क संरचना या कार्य शामिल हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर का निदान कैसे किया जाता है?

बाइपोलर डिसऑर्डर का आमतौर पर रोगी के इतिहास, मनोवैज्ञानिक परीक्षा, मूड चार्टिंग और कभी-कभी अन्य परीक्षणों के आधार पर मनोचिकित्सक द्वारा निदान किया जाता है ताकि अन्य स्थितियों का पता लगाया जा सके। निदान कई कारकों को ध्यान में रख सकता है जैसे गंभीरता, आवृत्ति, अवधि और मूड एपिसोड का पैटर्न।

Author

  • Hindiopedia

    Hi, I'm A. Rohman, the pen behind Hindiopedia. While I'm just a passionate blogger, my journey in the world of health and fitness has equipped me with valuable insights and a strong desire to help oth...

    View all posts
Scroll to Top